हाई शिक्षा में बढ़ रही अल्पसंख्यक महिलाओ की कदम

0
285

-कई राज्यों में हुए नमांकन में बृद्धि
केंद्र सरकार के एचआरडी मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कुलगुरु के सम्मेलन में भाारतीय मुस्लिम महिलाओ के उच्च शिक्षा में बढ़ रहे रुझानो का जो आंकड़े दिए है, उससे लगता है कि आने वाले दिनो में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में मुस्लिम महिलाए काफी आगे हो जाएगी। ताजा रिपोर्ट के अनुसार नई दिल्ली, हरियाणा, ओडिशा, चंडीगढ़ और नागालैंड के अपवाद होने के कारण कई राज्यों में उच्च शिक्षा में अल्पसंख्यक समुदायों की महिलाओ के नामांकन में वृद्धि हुई है। 2012 से एकत्रित संख्या, अखिल भारतीय सर्वेक्षण पर उच्च शिक्षा (एआईएसएचई) रिपोर्ट 2017-18 में दर्ज की गई है, सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री ने जो आंकड़े दिए है, उसके बताया गया है कि उच्च शिक्षा में मुस्लिम समुदाय में प्रवृत्ति से पता चलता है कि पूरे देश में, 8,98,121 मुस्लिम महिलाएं 2017-2018 के दौरान उच्च शिक्षा में दाखिला लेती हैं, जबकि 2016-17 में इससे कम मुस्लिम महिलाएं उच्च शिक्षा में यानी 8,22,830 दाखिला ली थ,
हालांकि दिए गए आंकड़े में बिहार में उच्च शिक्षा में नमांकन बढ़े है, जहा 2016-17 में यह संख्या 64,585 थे, वही बढ़कर 2017-2018 में 67,841 हो गई।
जम्मू-कश्मीर में, यह 2016-17 में 57,200 से बढ़कर 2017-18 में 69,561 हो गया। केरल में 65, 9 47 से 85,316 की बढ़ोतरी हुई, जबकि राजस्थान में 13,90 9 से 16,276 की वृद्धि हुई। उत्तर प्रदेश, जहां मुस्लिमो की एक बड़ी आबादी है, वहा अल्पसंख्यक महिलाओं का नामांकन 2017-2018 में 2016-17 में 1,58,4 9 0 से बढ़कर 1,62,9 9 0 हो गया। जकात फाउंडेशन ऑफ इंडिया के सैयद जफर महमूद के मुताबिक, संख्याएं उत्साहजनक हैं। मुस्लिम प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करते हैं, खासकर प्रचार और पूर्वाग्रह के समय में। ये स्थितियां एक समुदाय को शिक्षा की ओर बढ़ने के लिए भी प्रेरित करती हैं। उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ सभी पूर्वाग्रहों का मुकाबला करने के लिए एक समुदाय आंतरिक रूप से मजबूत होना महत्वपूर्ण है।
एआईएसएचई रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल के 4,28,866 की तुलना में 4,48,517 महिलाएं उच्च शिक्षा के लिए नामांकित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here