सदन में शराबबंदी को लेकर सत्ता और विपक्ष उलझे

0
105

सदस्य मंत्री की इस्तीफे की मांग पर अड़े
बिहार विधानसभा में शनिवार को मंत्री रामसूरत राय के इस्तीफे की मांग को लेकिर विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया। विधानसभा की दूसरी पाली जैसे ही शुरू हुई विपक्ष ने शराबबंदी को लेकर जमकर हंगामा करना शुरू कर दिया। इसी बीच विधानसभा में पक्ष और विपक्ष के विधायकों के बीच धक्का-मुक्की। सत्ता पक्ष के सवाल पर विपक्ष इतना भड़क गया कि नौबत हाथापाई तक पहुंच गई। विपक्ष के विधायक विधानसभा अध्यक्ष के नजदीक वेल तक पहुंच गए और उन्होंने वहां रखी कुर्सियां पलट दीं। इस दौरान बीच-बचाव के लिए मंत्री सुमित सिंह और नीरज बबलू भी वेल में आ गएं। उनके साथ मार्शल भी वेल में पहुंचे।
भारी हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही को दोपहर 3 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। सदन स्थगित होने की घोषणा के बाद भी राजद और बीजेपी विधायकों के बीच नोक झोंक होती रही। कुछ देर बाद मामला शांत हुआ।जानकारी के अनुसार नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विधानसभा अध्यक्ष से शराबबंदी को लेकर बोलने की इजाजत मांगी। इसपर स्पीकर ने उनसे कहा कि इस मामले पर बोलने के लिए सोमवार का दिन निश्चित किया गया है। हालांकि उन्होंने इसपर दो मिनट का समय मांगा। इसी दौरान सदन में हंगामा हो गया। हंगामा इतना बढ़ा की विधायकों के बीच हाथापाई होने लगी। साथ ही विपक्ष के सदस्यों ने वेल की कुर्सियां पलट दीं। इस पूरे मामले को अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जमा खान ने साजिश बताया है। उन्होंने कहा कि विपक्ष सदन को चलने ही नहीं देना चाहता था। उन्होंने कहा कि वे शुरुआत से ही मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे। उनका कहना है कि जब सदन में हंगामा ज्यादा होने लगा तो तेजस्वी और तेजप्रताप सदन से बाहर चले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here