बीपीएससी के कट ऑफ मार्क्स एक समान क्यों

0
237

बोले विपक्ष के नेता तेजस्‍वी यादव

बिहार की राजनीति अब आरक्षण पर आ गयी है, निकाले गए रिजल्ट के कट ऑफ मार्क्स पर बयानबाजी हो रही है। सरकार की नीयित पर सवाल उठाए जा रहे हैं। दरअसल 64वीं बीएसएससी रिजल्ट में अनारक्षित और आरक्षित कोटे का मार्क्स बराबर दिखाया गया है। हालांकि दोनों के लिखित परीक्षा के नंबर में काफी अंतर है। BPSC के कट ऑफ मार्क्स पर बयानबाजी बिहार लोक सेवा आयोग ने 64वीं बीपीएससी परीक्षा का फाइनल रिजल्‍ट छह जून को जारी कर दिया। परीक्षा के फाइनल रिजल्ट आने के बाद राज्य को 1454 अधिकारी मिले। इधर, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कट ऑफ मार्क्स को लेकर नीतीश सरकार को घेरा। ट्वीट कर तेजस्वी ने आरोप लगाया है कि इस परीक्षा में आरक्षित और अनारक्षित वर्ग के कट ऑफ मार्क्स को बराबर कर दिया गया है। तेजस्वी ने कहा कि ‘नीतीश जी ने 15 वर्षों में अपनी जाति की प्रति व्यक्ति आय बिहार में सबसे अधिक कराने के बाद बाकी पिछड़ी जातियों को लात मार दिया है।’ वही दूसरी ओर आरजेडी के वरिष्‍ठ नेता सह अधिवक्‍ता रजनीकांत यादव ने कहा,  नीतीश सरकार जो चाहती है वही करती है, पिछडो का वोट तो ले लिए, लेकिन बीपीएससी के परिणाम जो निकाले गए है, उसमें पिछडो को छांट दिया गया, और दोनो कोटी को एक कर दिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here