बिहार में फिर पांव पसार रहे कोरोना वायरस

0
11

24 घंटे में 88 नए मरीज निकले
बिहार में कोरोना वायरस फिर पांव पसारना शुरु कर दिया है, कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जिला प्रशासन विशेष तौर पर ऐहतियात बरत रहा है। फिर 24 घंटे में 88 लोग पाॅजेटिव पाए गए है, इसी कड़ी में होली में बिहार के बाहर से आने वाले लोगों की आज से विशेष ट्रैकिंग की व्यवस्था की गई है। पटना में स्थापित कोरोना कंट्रोल रूम गांव स्तर पर बनाई गई टीम के माध्यम से ट्रैकिंग की जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि 22 मार्च को होली स्पेशल ट्रेन बिहार आ रही है। इन ट्रेनों से बड़ी संख्या में लोग आएंगे। इसलिए रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड पर थर्मल स्क्रीनिंग एवं जांच की व्यवस्था की गई है। जिन लोगों की रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड में जांच या थर्मल स्क्रीनिंग हो पाएगा उनका पटना में ही विवरण ले लिया जाएगा।
वहीं जिन लोगों की जांच नहीं हो पाएगी उनका पूरा विवरण गांव में आशा द्वारा लिया जाएगा, जिसमें संबंधित यात्रियों के नाम एवं मोबाइल नंबर तथा कहां से आए हैं, का ब्यौरा दर्ज किया जाएगा। महाराष्ट्र, केरल एवं अन्य कोरोना वायरस से प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों पर विशेष नजर रखी जा रही है। कोरोना वायरस की जांच में जिन लोगों में बीमारी की पुष्टि होगी, उन्हें गांव के नजदीकी क्वारंटाइन सेंटर या उनकी सहमति पर होम क्वारंटाइन में रखा जाएगा, लेकिन यदि तबीयत अधिक खराब है तो ऐसे लोगों को मेडिकल कॉलेजों में भर्ती कराया जाएगा। लोगों का पूरा विवरण लेने के बाद पटना में स्थापित करोना कंट्रोल रूम से उनकी नियमित सेहत की जानकारी ली जाएगी। ताकि तबीयत खराब होने की स्थिति में कंट्रोल रूम से एंबुलेंस भेजकर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जा सके।
कोरोना से सेविका विध्यवासिनी की मौत
गया के कोंच प्रखंड की रहने वाली आंगनबाड़ी सेविका कुमारी विंध्यवासिनी देवी की कारोना से मौत हो गई। शुक्रवार की दोपहर पटना एम्स में उन्होंने इलाज के दौरान अंतिम सांस ली। कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद उन्हें 12 मार्च को एम्स में भर्ती कराया गया था। मौत के बाद कोरोना प्रोटोकॉल के तहत पटना में ही उनका अंतिम संस्कार किया गया। पटना एम्स के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने विंध्यवासिनी देवी की कोरोना से मौत की पुष्टि की है। मृतका के पति सत्येन्द्र प्रसाद शर्मा ने बताया कि उनकी पत्नी कोरोना टीका का दो डोज ले चुकी थीं। उन्होंने पहला डोज चार फरवरी को और दूसरा डोज छह मार्च को लिया था। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। पति के मुताबिक एम्स में 17 मार्च को हुई जांच में कोरोना की पुष्टि हुई थी। गया के डीएम अभिषेक सिंह ने कहा कि सेविका के मौत की बात सामने आयी है। इन्होंने कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज ली थी या नहीं यह स्पष्ट नहीं है। मौत का कारण केवल कोरोना ही है या कुछ और इसकी भी जानकारी ली जा रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here