बिहार में कोरोना से पहली मौत, हड़कंप

0
226

कतर से मुंगेर आए थे सैफ
एक तरफ प्रधानमंत्री के अह्वान पर रविवार को कोराना से बचने के लिए जनता कफर्यू तो लगाए गए है, जो सफल भी रहा, बिहार के सभी माॅल, परिवहन, आॅटो, सिनेमा हाॅल और दुकाने तो बंद रही, केंद्र सरकार ने 31 तक सभी रेल सेवाओ पर रोक लगा दी है, वैसे देश भर में 355 कोरोना के मरीज पाए गए है, जिसमें 6 की मौत हो चुकी है, वही दूसरी ओर डाॅक्टरों की लापरवाही के कारण दो दिन पूर्व कोलकता से आए सैफ जो कोरोना संक्रमित थे, उसकी मौत रविवार को पटना एम्स में हो गई, सैफ की मौत की खबर फैलते एम्स और उसके आसपास हड़कंप मच गए, फिलहाल पीएमसीएच में 13 नए संदिग्ध मरीज भर्ती किए गए है, पटना एम्स के अधीक्षक डा0 सी0एम0सिंह ने बताया कि सैफ को उसके परिजन शुक्रवार को एम्स में लाया था, उसे आईसोलेसशन में रखा गया था, यहा से उसकी सैंपल जांच के लिए 20 को भेजा गया है, लेकिन अभी तक रिपोर्ट नही आए है, उसकी किडनी फेल हो गयी थी, एक महिला में भी पाॅजेटिव रिपोर्ट है, उसे भी आईसोलेशन में रखा गया है, अब यहा सवाल उठता है कि सैफ कतर से कोलकता एयरपोर्ट पर उतरा तो वहा उसकी जांच हुई या नही! सैफ वहा से सीधे मुंगेर गया तो उससे कितने लोग मिलने आए! एम्स अधिकारियों ने आए ऐसे मरीजो की जानकारी क्यो नही दी! एक बड़ा सवाल यह भी है कि सैफ 48 घंटे से ज्यादा एम्स में रहा और इसकी सूचना सरकार को क्यो नही दी गई, और तो और अभी जांच पुरी होने से पहले परिजनो को डेड वाॅडी कैसे सौंप दी गई, एम्स अस्पताल सूत्रो की माने तो अभी 6 और संदिग्ध मरीज भर्ती किए गए है। संदिग्ध मरीजो का आने का सिलसिला जारी है।

बिहार में 31 तक बंद रहेगी सभी रेस्टूरेंट
सीएम नीतीश ने की घोषणा
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को अधिकारियों के साथ कोरोना के मसले पर समीक्षा बैठक की। बैठक के बाद सीएम ने पत्रकारों को बताया कि बिहार में 31 मार्च तक कोई कार्यकर्म आयोजित नही किए जाएंगे। अधिकारियों को भीड़ वाले इलाके पर नजर रखने का आदेश दिए गए है, बिहार में 31 मार्च तक सभी सिनेमा हाॅल, और परिवहन संचालनो पर रोक लगा दी गई है, सभी अस्पताल के अधिकारियों को 24 घंटे मुस्तैद रहने का आदेश दिए गए है, सीएम कोरांेना को दूर भगाने के लिए राज्य के सभी नागरिको से समाजिक और आपसी दूरी बनाए रखने की अपील की है।

आंध्र की मछली खाने से करे परहेज
डा0 प्रभात रंजन की राय
डा0 प्रभात रंजन की माने तो कोरोना से बचाव के लिए लोगो को फिलहाल मांसहारी त्याग देना चाहिए, क्योंकि कई पक्षियों भी मर रहे है, हालांकि चिकेन में तो कुछ नही निकला है, लेकिन फाॅर्म वाले जिस तरह दवा और सूई के सहारे चिकेन और अंडे को तैयार करते है, उससे इस समय सेहत को नुकसान पहुंच सकता है, मछली के सवाल पर कहते है कि जो ताजा मछली है, उसे आप सेवन कर सकते है, लेकिन आंध्र से आए मछली सेहत के लिए काफी खतरनाक है। अखवार और गैस सिलेंडर के छूने सवाल पर डा0 ऐ0के0 सिंह कहते है कि अखबार भी कई हाथे से गुजर कर आपके पास आते है, और गैस सिलेंडर को भी कई लोग छूते है तो ऐसी हालत में फिलहाल पंद्रह दिनो तक दोनो से दूरी बनाए रखने में ही फायदा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here