बिहार के 22 कॉलेज अंगीभूत इकाई घोषित

0
374
सभी चल रहे सूबे के अनुमंडल मुख्‍यालय में  

राज्‍य सरकार ने वैसे 22 राजकीय कॉलेजो को विश्‍वविद्यालय की अंगीभूत इकाई के घोषित किए है, जो अनुमंडल मुख्‍यालय में चल रहा है, सरकार ने इन अनुमंडल मुख्यालयों में स्थापित 22 राजकीय महाविद्यालयों को संबंधित विश्वविद्यालयों की अंगीभूत इकाई के रूप में मान्यता दे दी है। ये वो अनुमंडल हैं, जहां पहले से डिग्री कालेज नहीं थे। शिक्षा विभाग के उपसचिव अरशद फिरोज ने संबंध में आदेश जारी किया है। यहां आप सभी कालेजों का नाम जान सकेंगे। आदेश के मुताबिक दरभंगा के बेनीपुर अनुमंडल के राजकीय डिग्री कालेज, बेगूसराय के तेघड़ा स्थित डिग्री कालेज, बलिया के डिग्री कालेज, बखरी के डिग्री कालेज को ललित नारायण मिथिला विवि से अंगीभूत इकाई के रूप में स्वीकृति दी है। इसी तरह पूर्वी चंपारण के मधुबन स्थित डिग्री कालेज, बगहा के डिग्री कालेज, शिवहर के डिग्री कालेज, सीतामढ़ी के पुपरी स्थित डिग्री कालेज एवं वैशाली जिले के महुआ स्थित डिग्री कालेज को बीआरए बिहार विवि से अंगीभूत इकाई के रूप में मंजूरी दी गई है। पूर्णिया जिले के वायसी अनुमंडल स्थित डिग्री कालेज, धमदाहा स्थित डिग्री कालेज, कटिहार के मनिहारी स्थित डिग्री कालेज को पूर्णिया विवि की अंगीभूत इकाई के रूप में स्वीकृति दी गई है।

नालंदा जिले के राजगीर के डिग्री कालेज को पाटलिपुत्र विवि की अंगीभूत इकाई, रोहतास जिले के नौहट्टा स्थित डिग्री कालेज, भोजपुर के पीरो स्थित डिग्री कालेज तथा जगदीशपुर के डिग्री कालेज को वीर कुंवर सिंह विवि की अंगीभूत इकाई, जमुई के राजकीय महिला डिग्री कालेज को मुंगेर विवि, अरवल के डिग्री कालेज तथा गया के नीमचक स्थित डिग्री कारलेज को मगध विवि की अंगीभूत इकाई के रूप में मान्यता दी गई है। सुपौल के त्रिवेणीगंज स्थित डिग्री कालेज तथा सहरसा के सिमरी बख्तियारपुर स्थित डिग्री कालेज को बीएन मंडल विवि की अंगीभूत इकाई के रूप में मान्यता दी गई है।

विवि शिक्षकों व कर्मियों के वेतन को 290 करोड़ जारी

शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालयों के शिक्षकों और कर्मचारियों के वेतन आदि का भुगतान के लिए 290 करोड़ रुपये जारी कर दिया है। शिक्षा विभाग के मुताबिक आवंटित राशि से सितंबर से दिसंबर तक का वेतन और पेंशन आदि का भुगतान सुनिश्चित किया जाएगा। इसके संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here