बिहार एमएलसी चुनाव 2022: तेजस्वी के घर पहुंचे गुड्ड, लौटे खाली हाथ

0
153

जमुई से होगे महागठबंधन उम्‍मीदवार  अजय सिंह

बिहार में एमएलसी के 24 सीटो पर होना है चुनाव, हालांकि निर्वाचन आयोग ने अभी तक चुनाव होने का कोई एलान नही किया है, ऐसी संभावना है कि फरवरी में एमएलसी का चुनाव होगा, महागठबंधन में कांग्रेस, और वामपंथ भी आरजेडी के साथ है, लेकिन ऐसा लगता है कि फिर आरजेडी इस चुनाव में कांग्रेस को कोई तहरीज देने के मुड में नही है, लेकिन संभावित चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। खासकर टिकट की दावेदारी और शीर्ष नेताओं की हरी झंडी के बाद सर्दी में भी जमुई का राजनीतिक पारा चढ़ने लगा है। मुजफरपुर में राजनीति के कई महारथी वेड एंड वाच के मुड में है, और इन्हीं चर्चाओं के बीच जमुई जिप अध्यक्ष दुलारी देवी के पति गुड्डू यादव की तेजस्वी यादव से मुलाकात की। दो घंटे तक उनके घर पर हुई चर्चा की खबर ने बिहार की राजनीतिक पारा को और हाई कर दिया है। बताया जाता है कि इस दौरान तेजस्वी, गुड्डू से चुनाव मैदान में उतरने की बजाए पार्टी की ओर से तय प्रत्याशी अजय सिंह की मदद का भरोसा लेने का प्रयास करते रहने को कहा, वही गुड्डू ने फैसले की गेंद समर्थकों के पाले में डाल, राजद से संभावित प्रत्याशी तथा नेता की चिंता बढ़ा दी है। हालांकि, राजद की ओर से अजय सिंह के नाम पर औपचारिक घोषणा भले नहीं हुई है लेकिन दोनों ही प्रमुख गठबंधनों से उम्मीदवारी का चेहरा लगभग स्पष्ट हो चुका है। इसके बाद ही चर्चाओं में गर्माहट आई है। संभावना है कि कई नामचीन चेहरे निर्दलीय ही मैदान में ताल ठोकेंगे। अब सबकी निगाहें गुड्डू समर्थकों की होने वाली बैठक की ओर जा टिकी है। अभी बैठक की तिथि निर्धारित नहीं हुई है। लेकिन इंटरनेट मीडिया पर गुड्डू की उम्मीदवारी की मांग ट्रेंड कर रही है।

एनडीए पूर्व एमएलसी संजय प्रसाद को उतारेगी मैदान में

एनडीए में भी एमएलसी चुनाव के लिए तैयारिया शुरू है, वैसे तो एनडीए गठबेधन में हम और बीआईपी पार्टी भी है, लेकिन इन दलो को इस चुनाव से फिलहाल दूर रखा गया है, एनडीए सूत्रो की माने तो सीटो को लेकर जेडीयू और भाजपा में फाईनल हो चुका है, आरजेडी, कांग्रेस, एनडीए ने मुजफरपुर सीट के लिए अभी कोई पत्‍ता नही खोला है, उम्‍मीद है कि एक सप्‍ताह में पत्‍ते खोल दिए जाएंगे, इधर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से निवर्तमान एमएलसी संजय प्रसाद का चुनाव मैदान में उतरना लगभग तय माना जा रहा है। हालांकि, मंत्री सुमित कुमार सिंह के नेतृत्व पर संजय की जगह अपनी पत्नी सपना सिंह की उम्मीदवारी का दबाव बना रहे हैं। देखने वाली बात होगी कि सुमित को अपने मिशन में कितनी सफलता मिल पाती है। वैसे राजनीतिक प्रेक्षक सुमित के दाव को पार्टी की टिकट से प्रतिद्वंदी संजय को वंचित करने की रणनीति से जोड़कर देख रहे हैं। वैसे एक खेमे का अनुमान है कि एनडीए से संजय को टिकट मिलने के बाद सुमित के उम्मीदवार गुड्डू होंगे और मुंगेर प्रमंडल की राजनीति में नया इतिहास रचने की रणनीति होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here