पकडे गए बीपीएससी पेपर लीक के मास्टर  माइंड शातिर शक्ति

0
154

ईओयू ने की कार्रवाई, कई और पकडे जाएंगे

बीपीएससी पेपर लीक कांड में संलिप्‍त धंधेवाजो की पोल धीरे-धीरे खुलना शुरू हो गए है, इस मामले की पडताल कर रहे ईओयू टीम के अधिकारियों ने बडे नाटकीय ढंग से उस शख्‍स के पास पहुंच गयी, जो इस खेल के मास्‍टर माइंड थे, जो आठ मई को हुए बीपीएससी के 67वें परीक्षा के सी सेट के प्रश्‍न पेपर को लीक किया था। ईओयू की टीम ने जिस शातिर शख्स को गिरफ्तार किया है, उसक नाम शक्ति कुमार है। वह 37 साल का है, इस शातिर शख्स ने ही डॉक स्कैनर मोबाइल एप के जरिए सेट सी पेपर को स्कैन किया था। वो भी परीक्षा शुरु होने से ठीक आधे घंटे पहले। मतलब की सुबह के 10:30 बजे।

स्कैन करने के बाद प्रश्‍न पेपर को इसने कपिलदेव नाम के शख्स को उसके व्हाट्सप एप पर भेज दिया। ईओयू के अनुसार यहीं से बीपीएससी के परीक्षा का प्रश्‍न पेपर लीक हुआ था। जिस सेंटर से यह शातिराना खेल हुआ, उस दिन शक्ति कुमार वहां के सेंटर अधीक्षक थे। टीम ने इनके कॉलेज और ठिकानों पर छापेमारी की। वहां से काफी सारे महत्वपूर्ण कागजात और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जब्त किए गए हैं।

वे राम शरण सिंह इविनिंग कॉलेज के है प्रिंसिपल
गया जिले में डेल्हा थाना के तहत न्यू कॉलोनी है। शक्ति कुमार यहीं के रहने वाले हैं। ईओयू की टीम ने इन्हें पटना से गिरफ्तार किया है। दरअसल, डेल्हा में ही राम शरण सिंह इविनिंग कॉलेज है। यह एक प्राइवेट कॉलेज हैं, जिसे साल 2010 में किराए पर बिल्डिंग लेकर खोला गया था। शक्ति कुमार खुद ही इस कॉलेज के प्रिंसिपल भी हैं। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में इन्होंने बताया कि साल 2011 में इनके कॉलेज को एफिलिएशन भी मिला था। जो 6 ठे साल 2018 में खत्म भी हो गया।

मान्‍यता खत्म होने के बाद भी क्यों बनाया सेंटर?

यहाँ के सवाल उठता है कि शक्ति कुमार के कॉलेज का एफिलिएशन खत्म हुए 4 साल से अधिक का वक्त हो गए तो वहाँ केंद्र कैसे बना दिया गया, इसके बाद भी यहां हर साल से मैट्रिक और इंटरमीडिएट सहित अलग-अलग एग्जाम का सेंटर लगातार बनाया जाता रहा है। इस साल बीपीएससी ने भी 67 वें परीक्षा के लिए इस कॉलेज को अपना सेंटर बनाया था। बार-बार सेंटर बनाया जाना कहीं ये कोई साजिश का हिस्सा तो नहीं? फिलहाल ईओयू की टीम शक्ति कुमार से पूछताछ कर रही है। उससे कपिलदेव के बारे में पता लगा रही है। इनके नेटवर्क और फरार चल रहे सेटर्स गैंग के सरगना आनंद गौरव से कनेक्शन को भी खंगाल रही है। पेपर लीक मामले में यह 15 वीं गिरफ्तारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here