नालंदा में छूटे जमातियों का कोरोना तीर

0
115

24 घंटे में आए 17 नए मरीज
नालंदा के लोग खौेफ में आ गए है, 24 घंटे के अंदर वहा कोरोना के सत्रह नए मामले सामने आए है, वहा एक शेखाना मस्जिद जो काफी पुरानी है, सूत्रो का कहना है कि वहा से 640 से ज्यादा जमातियों का जत्था दिल्ली के मरकज गए थे, वैसे बिहार के सीएम का कर्मभूमि नालंदा है, और वहा से सीएम चुनाव बराबर जीतते आए है और अन्य को भी जीताए है, फिलहाल नालंदा कोरोना के हाॅट स्पाॅट हो गए है, 24 घंटे के अंदर सिर्फ नालंदा और अन्य क्षेत्रो में कोरोना के 17 नए मरीज सामने आए है, सोमवार तक बिहार में कोरोना के 96 केस थे, और अचानक रातो-रात आंकड़े में सत्रह और नए केस जुड़ गए, आंकड़े पहुंच गए 113 के पार। हालांकि मरने वालो के आंकड़े फिलहाल दो है, सरकार समय रहते जमातियों पर नियंत्रण नही किया तो जमातियों के छूट रहे तीरो से बिहार के कोरोना से अछूते अन्य जिले भी घायल हो सकते है, सिर्फ नालंदा में कोरोना के 28 तो सीवान में 29 मामले है, सीवान से सिर्फ एक कम है नालंदा में। सूत्रो ने कहा, कोरोना नेपाल के रास्ते बिहार में फलाए गए है, सूत्रो ने बताया कि बिहार में 1936 में तबलीगी जमातियों प्रवेश शुरु हुई, इसके बाद धर्म के नाम पर पांव पसारने शुरु कर दिया, भारत में ज्यादातर जमातियों का ग्रुप नेपाल के रास्ते आते है, वैसे तो कहने के लिए जमातियों ने धर्म के नाम पे जो संगठन बनाए है, उसे गैर राजनीतिक कहा गया है, लेकिन सही कुछ और है। नालंदा में एक शेखाना मस्जिद है, जो काफी पुरानी है, और वहा के लोगो ने बताया कि नालंदा से 640 से अधिक लोग दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज गए थे, और वहा से लौटने के बाद क्वारंटीन में नही गए, जिसके फलस्वरुप नालंदा के लोग कोरोना के जाल में जकड़ते चले जा रहे है, सूत्रो की माने तो नालंदा का वह मस्जिद तबलीगी जमातियों का अड्डा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here