गर्वनर के आदेश भी नही माने विवि के अधिकारी

0
131

अधिवक्‍ता ने कुलपति को फिर भेजा नोटिस

आखिर क्‍या वजह से है, जो विश्‍वविधालय अनुकंपा पर कार्यरत सेवा निवत कर्मी उदय नारायण प्रसाद की सच छूपा रही है,    बिहार के कुलाधिपति सह गर्वनर ने भी वरीय अधिवक्‍ता रजनीकांत के शिकायत के आलोक में बीआरए बिहार विश्‍वविधालय के कुलपति को शिकायत के ओलोक में कार्रवाई करने का आदेश दिया, और गर्वनर हाउस ने कुलपति को किए गए कार्रवाई से आवेदक को अवगत कराने का आदेश दिए, लेकिन महीनो बित गए विश्‍वविधालय के अधिकारियों ने आवेदक को कोई सूचना नही दी, वरीय अधिवक्‍ता रजनीकांत ने फिर दिनांक 16 जून 2021 को कुलपति को अंतिम नोटिस दिया है,  अधिवक्‍ता ने इसकी सूचना कुलाधिपति सह गर्वनर को भी दे दी है,  इस सबंध में पूछने पर वरीय अधिवक्‍ता रजनीकांत ने बताया कि विश्‍वविधालय में उदय नारायण प्रसाद की की नियुक्ति अनुकंपा पर की गयी है, और श्री प्रसाद खुद सीतामढी के अदालत में दिए बयान में स्‍वीकार कर चुके है, हाईकोर्ट में भी श्री प्रसाद अपने दायर केस में अनुकंपा नियुक्ति की चर्चा की है,  फिर भी न जाने क्‍यों विश्‍वविधालय सच छूपा रही है,  नियमत अनुकंपा की नियुक्ति में मां जिवित है तो उनका आवेदन और परिवार के सारे सदस्‍यों का अनापति प्रमाण पत्र दाखिल किया जाना है,  अन्‍यथा चयन नही होगा,  कई वार विश्‍वविधालय के अधिकारियों से इन सारे प्रमाण मांगे गए,  लेकिन न जाने क्‍यो विश्‍वविधालय इन सारे प्रमाणो को देने से हिचक रही है,  राज्‍य के उच्‍च शिक्षा निदेशक डा0 रेखा कुमारी ने भी सारे साक्ष्‍यो के साथ विश्‍वविधालय के कुलसचिव को अपने पत्रांक 14/एम 7-02/2020-1163 दिनांक 11-11-2 2020 के आलोक में उक्‍त मामले में कार्रवाई करने का आदेश तो दिया, लेकिन आए संचिका को विश्‍वविधालय के विधि विभाग में दबा दिया गया,  अधिवक्‍ता ने बताया कि विश्‍वविधालय से जो सीतामढी के एक अदालत में रिपोर्ट भेजी गयी है,   कोर्ट को भेजे गए रिपोर्ट पर संदेह है,  कोर्ट ने फिर विश्‍वविधालय को सही रिपोर्ट भेजने को कहा है,  अधिवक्‍ता ने कहा,  विश्‍वविधालय को भेजे गए यह नोटिस अंतिम है,  जबाब नही मिलने के बाद सीधे विश्‍वविधालय अधिकारियों के खिलाफ न्‍यायलय में मुकदमा किया जाएगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here