कोरोना का हॉटस्पॉट हुआ फिर पटना, फिर मिले 522 नए मरीज

0
152

मंगलवार को एक और डॉक्‍टर निकले पॉ‍जेटिव

ढंड में नही चेते तो कोरोना से बचना होगा मुश्किल । क्‍योंकि लंबे समय से अटके कोरोना बिहार में फिर पांव पसारना शुरू कर दिया है, बिहार में आए दिन कोरोना के केस बढ़ रहे हैं। बिहार में कुल 38 जिले है, जिसमें सिर्फ अरवल को छोड़कर 37 जिलों में कोरोना ने दस्‍तक दे दी है। मंगलवार दोपहर तक अरवल में एक भी एक्टिव केस नहीं है। राजधानी पटना हाट स्पॉट बना हुआ है। मंगलवार दोपहर को आई रिपोर्ट (24 घंटे) में 522 नए लोग पॉजिटिव मिले हैं। इससे हड़कंप मच गया है। वहीं, मंगलवार दोपहर 12 बजे तक एक और डॉक्टर संक्रमित मिला है। बताया जा रहा है ये 26 से 28 दिसंबर तक पटना में आयोजित आईएमएम  के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इस कार्यक्रम में शामिल अब तक करीब 150 डॉक्टर संक्रमित पाए जा चुके हैं। वहीं, आज दोपहर पटना में जेडीयू ऑफिस में गार्ड समेत 5 पॉजिटिव मिले। इसके बाद दफ्तर को सील कर दिया गया। इधर, इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के प्रिंसिपल कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। वो पहली और दूसरी लहर में भी संक्रमित हुए थे।

लॉकडाउन के बदले इसी में जीने की आदत डाले- मंत्री

वहीं, दिल्ली में मीडिया से बातचीत करते हुए बिहार सरकार के मंत्री जीवेश मिश्रा ने कहा, ‘लोग चिंता नहीं करें। पूरे बिहार को अलर्ट मोड में रखा गया है। सरकार पूरी तरह तैयार है। अब हम लोगों को कोरोना के बीच ही काम करने की आदत डालनी होगी। उन्होंने कहा, ‘जिस तरह कोरोना रूप बदल रहा है। कभी डेल्‍टा तो कभी ओमिक्रॉन आ रहा है। पता नहीं यह कब रुकेगा। ऐसे में बार-बार लॉकडाउन नहीं लगाया जा सकता। आखिर कितनी बार लॉकडाउन लगाते रहेंगे। इससे रोजी-रोटी की समस्‍या हो रही है। बिहार में कोरोना की रफ्तार तेजी से बढ़ रही है। इसकी रोकथाम के लिए नाइट कर्फ्यू लगाया जाए या लॉकडाउन जैसी सख्‍त पाबंदियां दोबारा लागू की जाएं, इस पर विचार के लिए सीएम नीतीश ने आज शाम हाईलेवल मीटिंग बुलाई है। कल मीडियाकर्मियों से बात करते हुए सीएम ने कहा कि पिछली बार की तरह ही  इस बार भी कोरोना के मामले अचानक तेजी से बढ़ रहे हैं। यह बड़ा ही दुखद है। सभी जिले से रिपोर्ट मंगाई गई है। मंगलवार की शाम को फिर जिलों की रिपोर्ट लेकर हमलोग बैठक करेंगे। मंगलवार की बैठक में बिहार में पाबंदियों और रोक पर निर्णय लेंगे। बिहार में कोरोना के मामलों में काफी तेजी आ गई है। वायरस की यह रफ्तार रोकने के लिए क्‍या राज्‍य में दोबारा से लॉकडाउन लागू करना पड़ेगा या सख्‍त पाबंदियों का दौर लौट आएगा। इस सब पहलुओं पर विचार के लिए सीएम नीतीश ने आज शाम हाईलेवल मीटिंग बुलाई है। 

भारत के राजधानी दिल्‍ली में फूटा कोरोना बम

भारत के राजधानी दिल्‍ली में मंगलवार को कोरोना और आममिक्रॉन का फूटा बम । दिल्‍ली में कोराना के जितने मरीज मिल रहे है, उसमें 85 फिसद आमतिक्रॉन के नए वेरिएंड निकल रहा है, केजरीवाल सरकार सिर्फ हांकने में नम्‍बर वन है,  दिल्‍ली की जनता का उन्‍हें कोई चिंता नही है । हालांकि दिल्‍ली में 7 फिसद से ज्‍यादा डेल्‍टा का मरीज भी पाए गए है, हालांकि दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ मंत्री सत्‍येन्‍द्र जैन ने मोबाईल पर बताया कि सोमवार को इसकी सूचना सदन में दी गई है, उन्‍होंने कहा, जो मॉस्‍क नही पहनते है, इसकी वजह से संक्रमण दर में बढोतरी हुई है, दिल्‍ली आपदा प्रबंधन प्राधिकार मंगलवार को पावंदियो पर कोई निर्णय सुना सकती है, मंत्री ने बताया कि बीते तीन दिनो से 190 संक्रमित की जांच रिपोर्ट आई है, जिसमें 154 में ओतिक्रॉन के लक्षण पाए गए है, सभी अस्‍पताल के डॉक्‍टरो को चौकस रहने का आदेश दिए गए है,।

मिजोरम में कोरोना के 152 नए मरीज मिले

मिजोरम में भी कोरोना ने पैर फैलाना शुरू कर दिया है, टेस्‍ट के बाद वहा मंगलवार को 152 लोग पॉजेटिव पाए गए है, वहा संक्रमितो की संख्‍या बढकर 1, 41, 901 हो गई, हालांकि वहा किसी मरीज की मौत होने की सूचना नही है । बंगाल में भी 100 से अधिक लोग कोरोना संक्रमित पाए गए है, कोलकोता में 24 घंटे के अंदर 3, 194 नए मामले सामने आए है, उधर, तीन अस्‍पतालो मे 100 से अधिक डॉक्‍टर कोविड से संक्रमित निकले, मुबंई में भी ओकमिक्रॉन ने कुहराम मचा रखा है, फिलहाल वहा दो हजार से अधिक लोग संक्रमण के शिकार है । उतर प्रदेश, गुजरात, उतराखंड, में भी कोरोना के नउए वेरियंट ओमिक्रॉन ने पांव पसारना शुरू कर दिया है । उतर प्रदेश के हाइकोर्ट ने बढते कोरोना को लेकर चिंता भी जाहिर की है ।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here