एसएनएस कॉलेज : पूर्व तथाकथित रिटायर लेखापाल फिर पहुंच गए कॉलेज मे

0
416
snscollege

प्रभारी प्रध्‍यापक के खास घोटाले में माहिर रिटायर पूर्व तथाकथित लेखापाल फिर कॉलेज में पहुंच गए है, वैसे तो वे अगस्‍त में रिटायर किए है, लेकिन कोई ऐसा दिन नही जो कॉलेज नही आते हो, कहते है कि पूर्व में पीएफ कटौती में घोटाला यह किसी से छिपी नही है, कहने के लिए कॉलेज प्रबंधन ने  फिलहाल एक क्‍लर्क को नाम के लिए लेखापाल का प्रभार दे रखा है, चर्चा है कि नए लेखापाल के लिए विज्ञापन निकाले जाएंगे, लेकिन सूत्रो की माने तो अभी भी कॉलेज के सारे लेखा का काम पूर्व तथाकथित लेखापाल ही देख रहे है, कुछ दिन पूर्व कॉलेज को डिग्री मद में 3 करोड अनुदान मिले थे, जिसके वितरण में हुए हेराफेरी सुर्खिया में रहा, और उस समय भी उक्‍त तथाकथित लेखापाल ने पीएफ कटौती में एक बडा खेल खेली, पीएफ के नाम पर शिक्षक और कर्मियो के खाते से सीधे 10-10 हजार काट लिए गए, धूस के नाम पर अलग से तीन हजार लिए गए, लेकिन पीएफ के खाते में जमा किया गया भी तो 1918 तक । सूत्र कहते है कि प्रभारी प्रध्‍यापक ने फिर उक्‍त तथाक‍थित लेखापाल को पीएफ कटौती के नाम पर एक बडा खेल खेलने के लिए लगा दिया है, और पीएफ के नाम पर वहा के कर्मियो के खाते से फिर 15 हजार कटौती करने की फिराक में है, कहते है कि उक्‍त तथाकथित लेखापाल ने कई कर्मियो को 15 हजार देने के लिए फोन करना भी शुरू कर दिया है, वहा के कर्मिया ने बताया कि एक तो कार्यरत कर्मियो को कुछ नही मिलता है, उपर से लूट की सिलसिला चल रही है, हैरत की बात तो यह कि कॉलेज सचिव सारे खेल को जानते हुए खामोश है, सूत्रो की माने तोक कोराना काल में भी उक्‍त तथाकथित लेखापाल ने पीएफ खाता में नोमनी के नाम जोडवाने के लिए एक बडा खेल खेला था, वहा गरीब कर्मियो से तीन-तीन सौ ऐंठ लिया था, पीएफ कार्यालय के सूत्रो का कहना है कि यहा पीएफ राशि जमा करने के दौरान कोई घूस नही लिए जाते है, ऐसा अगर पीएफ कार्यालय के नाम पर कोई करता है तो इसकी सूचना फौरन कार्यालय को दे । एक सवाल पर पीएफ कार्यालय के सूत्रो ने कहा जितनी राशि कर्मियो के खाते से काटी जानी है, उतनी राशि संस्‍थान को भी देना है ।

INAD1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here